कद्दू के बीजो को खाने के फायदे | Pumpkin seeds benefits in hindi

हमेशा कद्दू की सब्जी बनाने से पहले उसके बीजो को निकालकर फेक दिया जाता है । आज हम बात करेगे कद्दू के बीजो की खूबियो के बारे में जिसको जानने के बाद आप कद्दू के बीजो को फेकने से पहले एक बार जरूर सोचेगे ।

Pumpkin seeds benefits in hindi


कद्दू के बीजो को खाने के फायदे 


● हाँथो और पैरो में जलन होने पर - : 

अगर हाथ और पैरो में जलन रहती हो तो कद्दू के बीजो को पीसकर पेस्ट बना ले फिर इस पेस्ट को जलन वाली जगह पर लगाये , जलन में तुरंत आराम मिलेंगा ।

● जख्मो के लिए - : 

अगर शरीर में जख्मो के घाव हो तो कद्दू के बीजो को पीसकर घावो पर लगाने से घाव जल्द भरने लगते है ।

● हाई ब्लड प्रेशर होने पर - :

》उच्च रक्तचाप का इलाज 

हाई ब्लड प्रेशर के मरीजो को रोजाना कद्दू के बीजो का सेवन करना चाहिये । इससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है ।

● पेट में कीड़े हो तो - : 

पेट में कीड़े होने पर कद्दू के बीजो को चबाकर खाने से पेट के कीड़े ख़त्म हो जाते है ।

● जोड़ो का दर्द -: 

अगर जोड़ो में दर्द रहता हो तो कद्दू के बीजो का लेप् जोड़ो पर लगाये और बीजो को रोजाना खाते रहने से जोड़ो के दर्द से राहत मिलती है ।

● किडनी स्टोन्स -: 

》गुर्दे की पथरी का घरेलु उपचार 

कद्दू के बीजो का रोजाना सेवन करने से किडनी स्टोन्स की समस्या का ख़तरा कम किया जा सकता है ।

● Digestion के लिए - : 

》digestion ठीक रखने के घरेलु नुस्खे 

जिन लोगो का digestion ठीक न रहता हो उनको रोजाना कद्दू के बीजो का सेवन करना चाहिये । इससे लिवर में होने वाली बहुत सी बीमारियो से छुटकारा मिलता है ।

● दिल के रोगो में -: 

दिल के मरीजो को भी रोजाना कद्दू के बीजो का लगातार सेवन करना चाहिये । इससे दिल से जुडी कई प्रकार की बीमारियो से छुटकारा पाया जा सकता है ।

● एलर्जी दूर करे - : 

अगर एलर्जी की समस्या से परेशान हो तो कद्दू के बीजो को पीसकर , शहद के साथ दिन में २-३ बार चाटने से एलर्जी की समस्या दूर होती है ।

● अचछी नीद के लिए - : 

कद्दू के बीजो को चीनी के साथ मिलाकर खाने से नींद न आने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है ।
कद्दू के बीजो को खाने के फायदे | Pumpkin seeds benefits in hindi कद्दू के बीजो को खाने के फायदे | Pumpkin seeds benefits in hindi Reviewed by Mohd sarfraj on May 22, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.