गुलाब के फूल के चौका देने वाले फायदे | benefits of rose in hindi

शायद ही ऐसा कोई इन्सान होगा, जिसे गुलाब पसंद न हो। यानी आजकल हर इंसान की यही ख्वाहिश रहती हैं की वह अपने घर के आँगन में ग़ुलाब की क्यारियाँ लगाये। गुलाब सालो से ही सुन्दरता के लिए इस्तेमाल होता आ रहा है, साथ ही यह औषधीय गुणों की खान भी हैं।
आइये जानते हैं गुलाब के फूलों के चौका देने वाले फायदों के बारे में।

Benefits of rose in hindi


गुलाब के फूल के फायदे 


● गुलाब में विटमिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जिसकी वजह से इसका गुलकन्द बना कर रोजाना सेवन करने से जोड़ो और हड्डियों में लचक और ताकत बनी रहती हैं।

● ग़ुलाब के फूल को रोजाना खाने से TB रोग की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को जल्दी से आराम मिलता है।

● इसके फूल की पंखुडियो से मसूढ़े और दांत मजबूत होते है। दाँतो की बदबू दूर होती हैं और साथ ही पायरिया की बीमारी से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

》दाँतों का पीलापन दूर करने के tips 

● अगर पेट की बिमारियो से परेशान हैं तो इसका गुलकन्द काफी फ़ायदेमंद साबित हो सकता है।

》हाजमा सही करने के उपाय 

● गुलाब, आमाशय , आँत और लिवर की कमजोरी को दूर करता है। साथ ही इनमे शक्ति का संचार करने में भी सक्षम है।

● अगर गर्मियों के दिनों में घबराहट, बेचैनी के साथ जब दिल की धड़कने तेज हो जाती हैं तो गुलाब को सुबह-सुबह चबाकर खाने से बहुत आराम मिलता है।

● आँखों में गर्मी के कारण जलन हो या धूल मिटटी से आँखों में तकलीफ हो तो गुलाब जल से आँखों को धोने से आराम मिलता है।

》आँखों के रोग ठीक करने के tips 

● चेचक के रोगी के बिस्तर पर रोजाना गुलाब की पंखुड़ियों का सूखा चूर्ण डालने से दानो के जख्म ठण्डक पडकर सूख जाते है।

● गर्मियो में अगर सिरदर्द रहता हो तो गुलाब को पीसकर उसका लेप माथे पर लगाने से सिरदर्द गायब हो जाता है।

● गुलाब की पत्तियो के रस में ग्लिसरीन मिलाकर , सूखे और कटे-फटे होंठो पर लगाने से होंठ तुरंत चिकने और चमकदार हो जाते है।

》होठों को गुलाबी करने के tips 

● गर्मियो में भोजन के बाद पान में गुलकन्द डलवा कर खाना चाहिये। इससे माउथ फ्रेश होने के साथ खाना भी जल्द हजम हो जाता है। 
गुलाब के फूल के चौका देने वाले फायदे | benefits of rose in hindi गुलाब के फूल के चौका देने वाले फायदे | benefits of rose in hindi Reviewed by Mohd sarfraj on October 01, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.